Pharmacy Kya Hai? – Pharmacy क्या है? और कैसे करे?

क्या आप जानते है कि Pharmacy क्या है? Pharmacy Kya Hai? अगर आप नही जानते है Pharmacy क्या है?Pharmacy Kya Hai? और कैसे कोई Pharmacy का कोर्स कर सकते है? चाहे फिर वो कोई डिप्लोमा कोर्स हो या डिग्री अगर आप कोई भी Pharmacy से सम्बंधित कोर्स करना चाहते है या आप सिर्फ यह  जानना चाहते है कि Pharmacy क्या है?Pharmacy Kya Hai?

तो आप आज के इस पोस्ट मे हम यही बताने वाले है Pharmacy क्या है?Pharmacy Kya Hai? pharmacy की परिभाषा क्या होती है या Pharmacy Full Form In English क्या होती है इनके आलवा हम आपको इस पोस्ट मे Pharmacy के बारे मे पूरी जानकारी आप लोगो के साथ शेयर करेंगे।

जिससे कि आपको हमारे इस पोस्ट Pharmacy क्या है? Pharmacy Kya Hai? को पढने के बाद मे किसी दूसरे पोसरे पोस्ट को पढने की जरुरत ना पढे। तो चलिये अब जानते है कि Pharmacy क्या है? – Pharmacy Kya Hai

Pharmacy क्या है? – Pharmacy Kya Hai

"चिकित्सा में प्रयुक्त द्रव्यों के ज्ञान को औषधनिर्माण अथवा भेषज विज्ञान या 'भेषजी' या 'फार्मेसी' (Pharmacy) कहते हैं"

इसके अंतर्गत औषधों का ज्ञान तथा उनका संयोजन ही नहीं वरन् उनकी पहचान, संरक्षण, निर्माण, विश्लेषण तथा प्रमापण भी हैं। नई औषधों का आविष्कार तथा संश्लेषण भेषज (फ़ार्मेसी) के प्रमुख कार्य हैं। फार्मेसी उस स्थान को भी कहते हैं जहाँ औषधयोजन तथा विक्रय होता है।

जब तक भेषजीय प्रविधियाँ सुगम थीं तब तक भेषज विज्ञान चिकित्सा का ही अंग था। परंतु औषधों की संख्या तथा प्रकारों के बढ़ने तथा उनकी निर्माणविधियों के क्रमश: जटिल होते जाने से भेषज विज्ञान के अलग विशेषज्ञों की आवश्यकता पड़ी।

फार्मेसी नैदानिक ​​​​स्वास्थ्य विज्ञान है जो चिकित्सा विज्ञान को रसायन विज्ञान से जोड़ता है और यह दवाओं और औषधि की खोज, उत्पादन, निपटान, सुरक्षित और प्रभावी उपयोग और नियंत्रण से प्रभारित है।

फार्मेसी के अभ्यास के लिए दवाओं, उनकी क्रिया का तंत्र, दुष्प्रभाव, अंतःक्रिया, गतिशीलता और विषाक्तता पर उत्कृष्ट ज्ञान की आवश्यकता होती है। साथ ही, इसे उपचार के ज्ञान और रोग प्रक्रिया की समझ की आवश्यकता होती है।

फार्मासिस्टों की कुछ विशिष्टताओं, जैसे कि नैदानिक ​​फार्मासिस्टों को अन्य कौशलों की आवश्यकता होती है, उदाहरण के लिए भौतिक और प्रयोगशाला डेटा के अधिग्रहण और मूल्यांकन के बारे में ज्ञान।

फार्मेसी अभ्यास के दायरे में अधिक पारंपरिक भूमिकाएँ शामिल हैं जैसे कि दवाओं का संयोजन और वितरण, और इसमें स्वास्थ्य देखभाल से संबंधित अधिक आधुनिक सेवाएँ भी शामिल हैं, जिसमें नैदानिक ​​सेवाएँ, सुरक्षा और प्रभावकारिता के लिए दवाओं की समीक्षा करना और दवा की जानकारी प्रदान करना शामिल है।

इसलिए, फार्मासिस्ट, दवा चिकित्सा के विशेषज्ञ हैं और प्राथमिक स्वास्थ्य पेशेवर हैं जो रोगियों के लाभ के लिए दवा के उपयोग को अनुकूलित करते हैं।

Pharmacy परिभाषा हिंदी मे – Pharmacy क्या है? – Pharmacy Kya Hai

"चिकित्सा में प्रयुक्त द्रव्यों के ज्ञान को औषधनिर्माण अथवा भेषज विज्ञान या 'भेषजी' या 'फार्मेसी' (Pharmacy) कहते हैं।"

इसके अंतर्गत औषधों का ज्ञान तथा उनका संयोजन ही नहीं वरन् उनकी पहचान, संरक्षण, निर्माण, विश्लेषण तथा प्रमापण भी हैं। नई औषधों का आविष्कार तथा संश्लेषण भेषज (फ़ार्मेसी) के प्रमुख कार्य हैं। फार्मेसी उस स्थान को भी कहते हैं जहाँ औषधयोजन तथा विक्रय होता है।

Pharmacy Full Form In English

The meaning of the PHARMACY is also explained earlier. Till now you might have got some idea about the acronym, abbreviation or meaning of PHARMACY

. What does PHARMACY mean? is explained earlier. You might also like some similar terms related to PHARMACY to know more about it. This site contains various terms related to bank, Insurance companies, Automobiles, Finance, Mobile phones, software, computers,Travelling, School, Colleges, Studies, Health and other terms.

Pharmacy Kya Hai और कैसे करे?

इस पोस्ट मे हमने जाना कि Pharmacy Kya Hai और इसकी परिभाषा क्या होती है तो चलिये अब हम जान लेते है कि हमे अगर Pharmacy करनी है तो उसके लिये क्या योग्यता होनी चाहिये और कितनी फीस देनी पडेगी।

इअके और भि आप लोगो के सवाल है जो हम इस पोस्ट के माध्ययम से आप लोगो बताये और उनके बारे मे अच्छे से जानकारी लेंगे-

Qualification For pharmacy

फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथमेटिक्स/ बायोलॉजी विषयों के साथ बारहवीं पास करने के बाद फार्मा में दो साल का डिप्लोमा (डीफार्मा) या चार साल का बैचलर डिग्री (बीफार्मा) कोर्स कर सकते हैं. बी फार्मा के बाद फार्माकोग्नॉसी, फार्मास्यूटिकल इंजीनियरिंग, बायो केमिस्ट्री जैसे स्पेशलाइजेशन के साथ एम फार्मा कर इस क्षेत्र में अच्छा करियर बना सकते हैं.

मास्टर लेवल फार्मेसी प्रोग्राम में प्रवेश के लिए नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) द्वारा अखिल भारतीय स्तर पर आयोजित ग्रेजुएट फार्मेसी एप्टिट्यूड टेस्ट (जीपैट) पास करना होगा. इसके अलावा पीजी डिप्लोमा इन फार्मास्यूटिकल एवं हेल्थ केयर मार्केटिंग, डिप्लोमा इन फार्मा मार्केटिंग, एडवांस डिप्लोमा इन फार्मा मार्केटिंग एवं पीजी डिप्लोमा इन फार्मा मार्केटिंग जैसे कोर्स का विकल्प भी है.

Diploma Courses in Pharmacy

Course Name and Duration

  • डिप्लोमा इन फार्मेसी (D. Pharma)          2 Years
  • डिप्लोमा इन वेटरनरी फार्मेसी       2 Years
  • डिप्लोमा इन फार्मास्यूटिकल मैनेजमेंट         2 Years
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन हर्बल प्रोडक्ट्स    1 to 3 years
  • पाठ्यक्रम और संस्थान पर निर्भर करता है
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन फार्मास्यूटिकल केमिस्ट्री    1 to 3 years
  • पाठ्यक्रम और संस्थान पर निर्भर करता है
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन फार्मास्यूटिकल रेगुलेटरी अफेयर्स    1 to 3 years
  • पाठ्यक्रम और संस्थान पर निर्भर करता है
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन फार्मास्यूटिकल मैनेजमेंट   2 Years
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन टेक्निकल एंड एनालिटिकल केमिस्ट्री 2 Years

Bachelor’s Degree in Pharmacy

Course Name Duration

  • बैचलर ऑफ़ फार्मेसी (B.Pharma) 4-Years
  • बैचलर ऑफ़ फार्मेसी इन होनोर्स (B.Pharm. (Hons.)          4-Years
  • बैचलर ऑफ़ फार्मेसी इन फार्मास्यूटिकल केमिस्ट्री       4-Years
  • बैचलर ऑफ़ फार्मेसी इन आयुर्वेदिक 4-Years
  • बैचलर ऑफ़ फार्मेसी + मास्टर ऑफ़ बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन
  • B.Pharm + M.B.A. (Dual Degree)      5-Years

Postgraduate Courses in pharmacy

Course Name Duration

  • मास्टर ऑफ़ फार्मेसी (M. Pharma)           2-Years
  • एम फार्मा इन बिओफॉर्मासुटिक्स एंड फार्माकोकिनेटिक्स        2-Years
  • एम फार्मा इन बायोटेक्नोलॉजी        2-Years
  • एम फार्मा इन क्लीनिकल फार्मेसी   2-Years

PhD (Doctoral) course in Pharmacy

Course Name Duration

  • PhD इन फार्मेसी            3-Years
  • PhD इन फार्मसूटिक्स      3-Years
  • PhD इन फार्मास्यूटिकल मेडिसिन  3-Years
  • PhD इन फार्मास्यूटिकल बायोटेक्नोलॉजी      3-Years

pharmacy मे Admission कैसे ले

B Pharma में एडमिशन कैसे मिलता है?

यदि आप साइंस बैकग्राउंड से हैं जैसे बायलॉजी तो आप उस में एडमिशन ले सकते हैं । 12वीं की परीक्षा के बाद आप बी फार्मा में एडमिशन ले सकते हैं।

देश में बहुत से कॉलेज हैं फार्मेसी के जैसे मेरे शहर भोपाल में बरकतउल्ला यूनिवर्सिटी ,वी एन एस, आरकेडीएफ आदि विभिन्न प्रकार के कॉलेज हैं। जो यहां पर भोपाल में बी फार्मेसी में प्रवेश देते हैं ।फार्मेसी के लिए आपको 12वीं में कम से कम 60 परसेंट होना जरूरी है 4 वर्ष का बी फार्मेसी, 2 साल का diploma होता है।

इसमें फार्मेसी के बाद हमारे पास कई ऑप्शन होते हैं ।फार्मेसी के बाद करने के बाद हमारे पास काफी ज्यादा अवसर रहते हैं। जैसे हम अपना पक्का मेडिकल स्टोर खोल सकते हैं । UPSC के आप डीआई बन सकते हैं जो कि यह काफी सम्मानजनक पर पोस्ट होती है।

हम इसमें फार्मास्यूटिकल्स कंपनी में क्वालिटी कंट्रोल के रूप में नियुक्त भी हो सकते हैं ।इसके अलावा मार्केटिंग में भी बहुत ऑप्शंस हैं अलग-अलग कंपनियां जैसे सन फार्मा ,सिप्ला ,GSK आदि l मेरा खुद का15 साल का अनुभव है।

Fee For pharmacy In India

फार्मा कोर्स करने की फीस सरकारी और प्राइवेट कॉलेज में अलग अलग होता है जो की 20 हजार से 1,25,000 रूपये प्रति साल होता है सरकारी कॉलेज में फीस बिलकुल कम होता है और उसकी मान्यता भी अधिक होता है

Best Subject In pharmacy

पहला साल:

  • Pharmaceutical Analysis 1
  • Pharmaceutical Chemistry
  • Computer Applications           Biology
  • Organic Chemistry
  • Pharmacognosy 1
  • Advanced Mathematics         Basic Electronics
  • Anatomy & Physiology          

दूसरा साल:

  • Pharmacognosy 2
  • Pharmaceutical Chemistry 2
  • Pharmaceutical Analysis 2
  • AP HE-1
  • Pharmaceutics
  • Organic Chemistry 2
  • Pharmacognosy 3
  • AP HE- 2
  • Dispensing & Community Pharmacy           

तीसरा साल:

  • Biochemistry
  • Pharmacology 2
  • Biopharmaceutics
  • Medicinal Chemistry 1
  • Pharmaceutical Jurisprudence Ethics
  • Medicinal Chemistry 2
  • Pharmacology 1        
  • Hospital Pharmacy
  • Chemistry of Natural Products          

चौथा साल:

  • Pharmaceutical Biotechnology          
  • Pharmaceutics Electives
  • Clinical Pharmacy
  • Projected Related to Elective Pharmacognosy
  • Medicinal Chemistry 3
  • Drug Interactions
  • Chemistry of Natural Products          

Best College For pharmacy In India

  • दिल्ली इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंसेज ऐंड रिसर्च, दिल्ली
  • जामिया हमदर्द, नई दिल्ली
  • गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी, नयी दिल्ली
  • नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च, चंडीगढ़
  • बॉम्बे कॉलेज ऑफ फॉर्मेसी, मुंबई
  • इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मेसी, सीएसजेएम यूनिवर्सिटी, कानपुर
  • कॉलेज ऑफ फार्मेसी, दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली

Pharmacy करने के बाद क्या करे? या Career After pharmacy

पूरी दुनिया में भारत अकेला एक ऐसा देश है जिसके पास अमेरिकी दवा नियामक यूएसएफडीए के मानकों के अनुरूप अमेरिका से बाहर सबसे अधिक संख्या में दवा बनाने के प्लांट हैं।

जिसके कारण भारतीय फार्मा उद्योग मात्रा के आधार पर दुनिया का तीसरा सवसे बड़ा बाजार बन गया है। 2024 तक देश का फार्मा उद्योग 65 अरव डॉलर की ऊंचाई तक पहुंचने का अनुमान है। जाहिर है जैसे-जैसे फार्मा सेक्टर बढ़ेगा वैसे वैसे करियर के मौके भी तेजी से बढ़ेंगे.

अगर आप 12th में विज्ञान विषय का छात्र हैं और विभिन्न रोगों में लाभ पहुंचानेवाली दवाओं की खोज एवं निर्माण में रुचि रखते हैं, तो फार्मेसी के इस क्षेत्र में करियर की बेहतरीन संभावनाएं प्राप्त कर सकते हैं|

फार्मेसी कोर्स करने के बाद ड्रग मैन्युफैक्चरिंग, ड्रग रिसर्च, डग मार्केटिंग, फार्माकोविजिलेंस, हॉस्पिटल फार्मेसी और रिसोर्स मैनेजमेंट आदि क्षेत्रों में अपना करियर बना सकते है।

ड्रग मैन्युफैक्चरिंग के क्षेत्र में मॉलिक्युलर बायोलॉजिस्ट, फार्मेकोलॉजिस्ट, टॉक्सिकोलॉजिस्ट या मेडिकल इनवेस्टिगेटर जैसे कार्य होते हैं। जहाँ नई-नई दवाओं की खोज व विकास संबंधी कार्य किए जाते हैं वहाँ रिसर्च ऐंड डेवलपमेंट का काम कर सकते है ।

कुछ और भी करियर विकल्प है जो नीचे दिए गए है:

ड्रग मैन्युफैक्चरिंग:

फार्मेसी कोर्स करने के बाद ड्रग मैन्युफैक्चरिंग कंपनी में आप मॉलिक्युलर बायॉलजिस्ट, फार्मेकॉलजिस्ट, टॉक्सिकॉलजिस्ट , मेडिकल इंवेस्टिगेटर, पैकेजिंग, क्वालिटी कंट्रोल, प्रोडक्ट मैनेजर, मार्केटिंग मैनेजर आदि के तौर पर काम कर सकते है. मेडिकल रिप्रेजेन्टेटिव बनकर फार्मा मार्केटिंग में भी जॉब के अवसर प्राप्त कर सकते हैं.

मॉलिक्युलर बायॉलजिस्ट का काम जीन संरचना और मेडिकल व ड्रग रिसर्च में प्रोटीन के इस्तेमाल का अध्ययन करना होता है।

फार्मेकॉलजिस्ट इंसान के बॉडी पार्ट्स और Tissues पर ड्रग के प्रभाव का जांच कारण होता है।

टॉक्सिकॉलजिस्ट इनका काम किसी भी दवा से होने वाले नेगेटिव इफेक्ट को चेक कर टेस्टिंग करना होता है।

मेडिकल इंवेस्टिगेटर ये नई दवाओं के डेवलपमेंट और उसके टेस्टिंग की पर्किर्या को देखते है।

फार्मासिस्ट:

अस्पतालों एवं स्वास्थ्य केंद्रों में मेडिकल परीक्षणों के संदर्भ में फार्मासिस्ट की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है. इन पर दवाइयों और चिकित्सा संबंधी अन्य सहायक सामग्रियों के भंडारण, स्टॉकिंग और वितरण की जिम्मेदारी होती है. वही रिटेल सेक्टर में फार्मासिस्ट को एक बिजनेस मैनेजर की तरह काम करना होता है

क्वालिटी कंट्रोल:

फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्री में क्वालिटी ङ्केफंट्रोलार का काम काफी अहम होता है। ये यह सुनिश्चित करते हैं कि किसी दवा को लेकर कंपनी द्वारा जो नतीजे बताये जा रहे हैं, वे सुरक्षित व असरदायी हैं या नहीं.

फार्मा टीचिंग करियर :

एम फार्मा या पीएचडी करने के बाद किसी भी निजी या सरकारी संस्थान में शिक्षक की रूप में अपना करियर बना सकते हैं।

अनुसंधान क्षेत्र:

सरकारी शोध संस्थान और निजी कंपनियां नयी दवाइओं की खोज व पुरानी दवाइओं की क्षमता वृद्धि के लिए लगातार अनुसंधान करती रहती हैं. आप चाहें तो अपनी क्षमता और ज्ञान का इस्तेमाल नये उत्पादों के विकास में करने के लिए किसी निजी या सार्वजनिक अनुसंधान संगठनों से जुड़ सकते हैं.

खुद का मेडिकल स्टोर :

डी फार्मा या बी फार्मा कोर्स करने के बाद अगर आप नौकरी नहीं करना चाहते हैं, तो आप खुद का मेडिकल स्टोर मतलब दवा दुकान भी खोल सकते हैं। आपके जानकारी की लिए बता दू की दवा दुकान खोलने की लिए लाइसेंस की जरूरत होती है जिसे सिर्फ डी फार्मा या बी फार्मा डिग्री धारक ही प्राप्त कर सकता है.

pharmacy के बाद कितनी सेलेरी मिलती है?

अनुभव और स्थान के आधार पर फार्मासिस्ट की सैलरी अलग-अलग होती है। वैसे आमतौर पर ट्रेनिंग के तुरंत बाद जॉइन करने वाले फार्मासिस्ट को औसतन 25 हजार रुपये महीने मिलते हैं। सरकारी अस्पतालों में सैलरी पांच हजार रुपये से शुरू होती है। मेडिकल रेप्रजेंटेटिव को पांच हजार से 10 हजार रुपये की बीच सैलरी मिलती है। इसके अलावा इंसेंटिव मिलता है। लैब रिसर्चर को पंद्रह हजार से 40 हजार रुपये की बीच में सैलरी मिलती है। मैन्युफैक्चरिंग यूनिट मोटा पैकेज ऑफर करती हैं।

आपने क्या सीखा  – Pharmacy Kya Hai

आज के इस पोस्ट मे हमने आपको बताया कि Pharmacy क्या है? – Pharmacy Kya Hai? साथ हि आपको हमने फार्मेसी से सम्बंधित और भी जानकारी शेयर की है जिससे कि आपको Pharmacy क्या है? – Pharmacy Kya Hai? से अलावा आउर भी जनाकारी मिल सके और आपको फार्मेसी के बारे मे कही अपना समय नही लगाना पडे।

हमे उम्मीद है कि आपको हमारा यह पोस्ट Pharmacy क्या है? – Pharmacy Kya Hai? जरूर पसंद आया होगा साथ हि साथ यह पोस्ट Pharmacy क्या है? – Pharmacy Kya Hai? आपके लिये उपयोगी साबित होगा।

अगर लगता है कि हमारा यह पोस्ट के लिये और के किसी मिलने वाले  के लिये उपयोगी साबित हो सकता है तो आपसे हम निवेदन करेंगे कि हमारे इस पोस्ट Pharmacy क्या है? – Pharmacy Kya Hai? को ज्यादा से ज्यादा लोगो के साथ शेयर करे।

जिससे वो भी जान सके कि Pharmacy क्या है? – Pharmacy Kya Hai? और कैसे फार्मेसी कोर्स कर सकते है?

Leave a comment