CPU क्या होता है? CPU की पूरी जानकारी हिंदी में?

CPU Kya Hai [ What is CPU in Hindi ] आज के पोस्ट में हम जानेंगे कि CPU Kya Hai. अगर आप एक Computer पर काम करते हैं तो आपको यह जानना बहुत हि ज्यादा जरुरी है कि CPU Kya Hai और कैसे काम करता है.

असल मे CPU को Computer का दिमाग कहा जाता है। क्या आप यह बात जानते है कि एक CPU जो हमारे सभी Computers में होता है वो हमारे Computer के लिये बहुत हि ज्यादा Important है। जैसे हमारे शरीर के हमारा दिमाग Important है वैसे हि प्र्त्येक Computer के लिये CPU भी Important हैं।

ऐसे में हमारे सभी के दिमाग में बहुत सारे सवाल आते है जैसे कि CPU को Computer का दिमाग क्यो कहा जाता है? CPU कैसे काम करता है? CPU के मुख्य क्या क्या काम होते है? और भी बहुत सारे सवाल होते हैं जिनके बारे में हम जानना चाहते हैं।

CPU Kya Hai [ What is CPU in Hindi? ]

CPU Kya Hai? -CPU क्या है?
CPU Kya Hai? -CPU क्या है?

आज के इस पोस्ट में हम आप को CPU Kya Hai? केे बारे में पूरी जानकारी देंगे कि CPU Kya Hai? और CPU Kya Hai? इससे सम्बन्धित जितने भी आपके सवाल हैं उनके भी आपको जवाब मिल जायेंगे।

तो चलिये हम एक उदहरण से समझ लेते है कि CPU Kya Hai और कैसे काम करता है और यह कितना Important है। जब हम कोई भी काम करते है तो हम अपने हाथ और पैरो का इस्तिमाल करते हैं।

लेकिन हम काम करने से पहले अपने दिमाग में उसके लिये सोचते है और समझते हैं। जब हमारा दिमाग उस काम बारे में पुरी तरह से समझ जाता है तो वो हमारे हाथ पेरो को निर्देश भेजता है जिससे हमारे हाथ पैर उस काम को करते हैं।

ठीक इसी तरह से हम अपने Computer पर काम करते हैं Computer में हम Keyboard और Mouse का इस्तिमाल हाथ पैरो कि तरह करते हैं क्योंकि हम अपने किसी भी काम को करने के लिये जो Computer में Data देते हैं अब यह Data Computer के दिमाग यानि कि CPU के पास जाता है।

जैसे हमारा दिमाग काम को अच्छे से समझता है ठीक उसी तरह से CPU भी Computer में दिये गये Input Data को अच्चे से समझता है और उसको आसानी के साथ हल कर देता है।

Computer की Capacity की निर्भरता:

अब बात आती है कि जैसे प्रत्येक इंसान कि काम करने कि Capacity अलग अलग होती है उसी तरह से प्रत्येक Computer की भी काम करने कि Capacity अलग अलग होती है यह Computer के CPU पर निर्भर करता है।

जितना ज्यादा Power Full CPU होगा उतना हि ज्यादा Computer अपने काम को असानी के साथ पूरा करेगा। और उतनी हि ज्यादा Accuracy रहेगी और Result भी उतना हि ज्यादा अच्छा होगा। Computer का Fast और Slow होना भी CPU पर हि निर्भर करता है।

हम फास्ट और Slow Computer को कुछ इस तरह से समझ सकते हैं। एक हमारे घर में इस्तिमाल होने बाला Computer है और दूसरा मान लिजिये कि ISRO में काम मे लिये जाने वाला Computer है। इन दोनो Computers में वैसे तो जमीन आसमान का फर्क है लेकिन हम कैसे इस फर्क को समझ सकते है।

तो यह समझना बहुत हि आसान है। क्योंकि जो हमारे घर में Computer रखा है वो हमारे Personal कामो को असानी से करता है लेकिन अगर हम इस Computer को ISRO के लिये इस्तिमाल करे तो काम करने कि बात छोडो हमारा यह Computer Hang हो जायेगा और इससे कोई भी काम नही होगा।

क्योंकि ISRO में जो Computer काम मे लिया जाता है उसका CPU बहुत हि ज्यादा Fast होता है जिसकी मदद से वो लोग अपने System कि मदद से Space में Rocket, Satellite को असानी के साथ Control कर लेते है। और जो हमारे घर में इस्तिमाल किया जाता है वो Computer बस Entertainment और Basic काम के लिये बनाया जाता है।

अब आपको यह बात तो समझ में आ हि गयी होगी कि CPU Computer के लिये कितना Important है। और इसके बिना Computer, Computer नही है बल्कि एक डिब्बा है जो कि किसी काम का नही है। और यह भी आपको समझ में आ गया होगा कि CPU Kya Hai? चलिये और Deatil में समझ लेते हैं कि CPU Kya Hai और इसके काम क्या क्या हैं?

CPU का पूरा नाम क्या है?

दोस्तो CPU का पूरा नाम क्या है? यह जानना बहुत हि ज्यादा जरूरी है। तो दोस्तो CPU का पूरा नाम है Central Processing Unit हैं। यह एक Computer कि Primary Unit होती है जो Computer के सारे Instruction को Process करती है।

यह लगातार Applications और Operating System को चलाता रहता है। इसके साथ हि जो User के द्वारा Input दिया जाता है। उसे भी यह Receive करता है। उसी के आधार पर सभी Application काम करते है और यह Input Data को Process कर के हमे Out Put में Result देता है।

Definition of CPU in Hindi?

Central Processing Unit एक ऐसी unit है जो कि Computer के अंदर होने वाले सभी Process को पुरा करता है। यह Computer के एक भाग से दूसरे भाग तक निर्देश को flow करता है। और साथ हि साथ निर्देश को Control करता है। CPU का सारा काम एक Chip पर निर्भर करता है। जो कि Computer के Motherboard में स्थित छोटे छोटे Chips  को एक Group में जोड दिया जाता है। और इससे एक बडी Unit त्यार करता है।

CPU एक Computer का आधार होता है जो कि एक Computer को Computer  बनाता है। हाँ यह बात भी सच है कि एक CPU Computer नही है। यह Computer का Brain होता है। यह एक Computer का खास पार्ट होत्ता है जो की छोटी छोटी Chips से बना होता है। और यह Chips Motherboard में लगी होत्ती हैं।

आज के दौर में Technology इतनी ज्यादा विकसित हो गयी है कि इन Transistors को बहुत हि ज्यादा छोटे छोटे आकार में बनाया जा रहा है

जिसकी मदद से Computer की Speed को और भी ज्यादा तेज किया जा सके जैसे जैसे समय बदल रहा है वैसे वैसे Computer Technology इतनी ज्यादा Develop हो रही है कि एक Computer कठिन से कठिन काम को भी Seconds के कुछ हि हिस्से मे कर देता है।

आने वाले समय में CPU को एक ऐसी Technology दी जायेगी कि Computer किसी भी काम को बहुत हि ज्यादा तेज और Accuracy के साथ कर पायेगा। और जिस वैज्ञानिक ने इन Transistor को बनाया था उसका नाम Gorden Moore है। और Technology को Moore’s Technology  भी कहते हैं।

Types of CPU in Hindi- CPU के प्रकार

हम सभी इस बात को जानते हैं कि CPU Computer का एक बहुत हि मुख्य भाग है जो कि Computer के एक Component से दूसरे Component के बीच Data को Transfer करता है। और साथ हि साथ  Data को Instruction, Calculation. Data Handling, आदि काम बहुत हि आसानी के साथ कर देता है।

हमारा Computer जिस Speed से काम करता है वो Speed भी Computer के CPU पर निर्भर करती है। जितना ज्यादा CPU Powerful होगा उतना हि ज्यादा आपका Computer भी Powerful होगा।

लेकिन अब बात यहाँ यह आती है कि हम कैसे CPU का पता करे कि यह Powerful है या नही क्योंकि हमे इसके बारे में पता हि नही है,

तो इसके लिये हम आपको बतायेंगे कि CPU के कितने प्रकार हैं और इनमे कितनी Power होती है और हमे कोनसा CPU वाला Computer लेना चाहिये।

तो चलिये जान लेते हैं CPU के प्रकार के बारे में-

CPU बनाने वाली दो बडी Company है। Intel और AMD यह दोनो हि सबसे ज्यादा Popular Company है। और यह Mostly तीन प्रकार के CPU बनाती है

  1. Single Core CPU
  2. Dual Core CPU
  3. Quad Core CPU

अब हम इन तीनो के बारे मे ditel  मे जानेंगे और बतायेंगे कि आपको  कोनसा CPU लेना चाहिये

1. Single Core CPU

Single Core CPU सबसे पुराना CPU Model है पहले Single Core CPU हि मोजूद थे इनके अलावा कोई और CPU नही था। Single Core CPU इसको इस्लिये कहा जाता हैं क्योंकि एक समय एक हि Operation को कर सकते हैं। अगर हम दुसरा Operation पहले Operation को खतम करने से पहके शुरू कर देते हैं तो यह Properly काम नही करता है। इसकी Working Speed बहुत हि ज्यादा कम हो जाती है।

मतलब कहने का यही है कि एक समय हम एक हि काम कर सकते है। और Multitasking नही कर सकते हैं इसकी Speed बहुत हि ज्यादा Slow थी।  अगर हम एक साथ दो operation शुरू कर देते हैं तो इसकी Speed बहुत हि ज्यादा कम हो जाती थी और इससे काम करना बहुत हि ज्यादा मुशकिल होता था।

Single Core CPU की Power मापने के लिये Clock Speed का इस्तिमाल किया जाता था और इसकी Limit Clock Speed पर हि निर्भर होती थी।

2. Dual Core CPU

Dual Core CPU की बात करे तो यह एक Single Core CPU हि होता है जिसमे दो Core होते है। इसिलिय यह CPU अकेला हि दो CPU के बराबर काम कर लेता है। अगर हम Single Core CPU और Dual Core CPU का Compare करे तो यह Single Core CPU से बहुत अलग होता है।

क्योंकि हम Single Core CPU में एक समय एक हि काम कर सकते है जबकि Dual Core CPU में हम एक से ज्यादा Operation Run कर सकते हैं। और इसिलिये इसे Multitasking भी कहते हैं। यह एक से ज्यादा Operations को आसानी के साथ हल कर देता है।

अगर आप Dual Core CPU को अच्छे से इस्तिमाल करना चाहते हैं तो इसके लिये Operating System और Program दोनो में एक Special Coding होनी चाहिये जिसे हम SMT भी कहते हैं। SMT का मतलब है Simultaneous Multi Threading Technology. Dual Core CPU एक Single Core CPU से बहुत तेज काम करता है।

3. Quad Core CPU

 Quad Core CPU को हम Multi Core CPU भी कह सकते हैं जो कि एक Single Core CPU से 4 गुना ज्यादा Power रखता है।

जिस तरह से Dual Core CPU में दो Core होते है इसी तरह से Quad Core CPU में एक 4 Core होते है। Quad Core CPU Multitasking के लिये बहुत हि ज्यादा और अच्छी Service देता है।

मान लिजिये कि आप एक Single Core CPU इस्तिमाल कर रहे हैं और एक Quad Core CPU तो जो काम आप Single Core CPU में चार मिनट में करते है वो काम एक Quad Core CPU में सिर्फ एक हि मिनट में हो जयेगा।

और आगर आप एक हि Application को इसमे run कराते हैं तो आपको यह भी पता नही चलेगा कि आप अपने Laptop में कोई Program भी Run कर रहे हैं।

ऐसे CPU System को ऐसी जगह ज्यादा इस्तिमाल किया जाता है जहाँ Multitasking कि बहुत ज्यादा जरुरत होती है। ऐसे कि Video Editing, Designing, Games, Application Development, आदि।

CPU Core क्या है?

जैसा कि हम आपको यह बता चुके है कि सबसे पहले Singe Core CPU Market में आया था। और इसमे सिर्फ एक हि Core का इसतिमाल किया गया था। इसका मतलब यह है कि Single Core CPU सिर्फ एक हि Task तक काम करने Limit रखता था। इसी वजह से पहले Computer की Speed बहुत ज्यादा कम थी और वो बहुत हि ज्यादा धीरे काम करते थे।

CPU Core  कितने प्रकार के होते हैं?

जैसे जैसे Computer की Requirement बडती गयी उसी तरह से CPU को भी Powerful करते गये और आज के समय मे Dual Core CPU, Quad Core CPU और Octo-Core CPU Market में आ गये हैं जिनकी Power बहुत हि ज्यादा और काम तो Second में कर देते है।

Single Core CPU का मतलब यह है कि एक हि Chip में सिर्फ एक हि CPU होता है और Dual Core CPU में एक Chip में 2 CPU लगे होते है इसी तरह से Quad Core CPU में 4 CPU एक Single Chip में लगे होते है। और जितने ज्यादा CPU एक Chip में लगे होंगे उतने हि ज्यादा Speed से आपका Computer काम करेगा।

CPU के मुख्य सहायक उपकरण

Central Processing Unit अपने कई Component से मिलकर बना होता है और इन Component के काम भी अलग अलग होते हैं। अगर आप इनके बारे में जानना चाहते हैं तो इस पोस्ट को पूरा पढिये।

CPU के मुख्य तीन Component होते हैं-

  1. Memory or Storage Unit
  2. Control Unit
  3. ALU
    1. Arithmetic Section
    1. Logical Section

1. Memory or Storage Unit:-

Memory or Storage Unit का मुख्य काम यह होता है कि वो  System के Data को Storage करके रखता है। और अगर Computer के किसी Unit इसकी जरुरत होती है तो यह Data को Supply भी करता है। इसे दूसरे नाम से भी जाना जाता है जेसे कि Random Access Memory, Internal Memory, Primary Memory.

आपके System की जितनी ज्यादा Memory or Storage Unit का Size होगा उतनी हि ज्यादा System की Speed और Power होगी। Memory or Storage Unit के दो प्रकार होते हैं एक होती है Primary Memory और दूसरी होती है Secondary Memory.

Memory or Storage Unit के मुख्य काम‌:-

  • Memory or Storage Unit System कि जरूरत के हिसाब से Processing के लिये सभी Instruction, Data, को Store यानि की Save करके रखती है।
  • Memory or Storage Unit, Processing के दौरान मिलने वाले Result को भी Save करके रखती है।
  •  Final Result Device में भेजने से पहले हि ये Processing के Final Result को Save कर लेती है।
  • सभी Input और Out Put Result को Main Memory में हि Save किये जाते हैं।

उपर दिये गये सारे काम Memory or Storage Unit के होते है अगर मान लिजिये कि आप किसी Project पर काम कर रहे और उस समय आपका System Hang हो जाता है या फिर Power खत्म हो जाती है तो आप ऐसे में अपने Project को वही से शुरू कर सकते हैं जहाँ आपने इसे छोडा था।

क्योंकि Memory or Storage Unit इस Data को Save कर लेती है और अगर Memory or Storage Unit Data को Save नही करती है तो आपका Project Nill हो जाता है। और आपको इसे फिर से बनाना पडेगा।

2. Control Unit

आप इसके नाम से हि समझ गये होंगे। Control Unit का मुख्य काम यह है कि Computer के सभी Part के Operation को यह Control करती है। Control Unit का काम Data Processing का नही होता है।

Control Unit के मुख्य काम यह हैं-

  • Control Unit Computer के सभी Unit को Manage और Control करके रखती है।
  • Computer के एक Unit से दूसरी Unit तक Data और Instruction के Transfer को Control करने की जिम्मेदारी Control Unit की होती है।
  • Control Unit Data or Instruction को Process करने का काम नही करती है।
  • Control Unit Data or Instruction को Save करने का काम भी नही करती है।

ALU

ALU का पूरा नाम है- Arithmetic Logic Unit इसके मुख्ये दो भाग होते हैं Arithmetic Logic Unit का मुख्य काम होता है Calculation करना। Select करना, Logic लगाना आदि इसकी मदद से Computer बडी से बडी Calculation को असानी से कर लेती है।

  1. Arithmetic Section
  2. Logical Section
  3. Arithmetic Section:-

Arithmetic Section का मुख्य काम यह होता है कि अंकगणित से जुडे सभी Problem को असानी के साथ Solve करना जैसे कि Addition, Subtraction, Multiplication, और Division, Arithmetic Section मुश्किल से मुश्किल Calculation को आसानी के साथ हल कर देती है।

Logical Section:-

Logic Section का मुख्य काम होता है Logic Operation को Solve करना होता है। जैसे कि Data Compare करना., Data Select करना, Data Match करना, Data Merging करना. यह सभी काम Logic Section का होता है।

CPU के मुख्य कार्य – CPU Function in Hindi

Computer के बारे में अगर आप जानकारी ले रहे हैं तो आपको CPU के बारे में भी एक अच्छी जानकारी होना चाहिये। क्योंकि अगर कोई कहता है कि मुझे ता है और इसके मुख्य भाग क्या है? तो हम Computer के बारे में भी कुछ नही जानते हैं।

तो चलिये हम जानते हैं कि CPU कैसे काम करता है।

CPU कैसे काम करता है-

1. Fetch [लाना]

Fetch का Computer के बारे सब कुछ आता है लेकिन अगर वो CPU के बारे में नही जानता हैं कि CPU Kya hai? Kaise Kam Kerta hai? यह सभी जानकारी आपको होना चाहिये।

हम इस बात को अच्छे से जानते हैं कि CPU Computer का दिमाग होता है। और अगर CPU के बारे में पता नही है कि यह कैसे काम कर

 मतलब होता है कि “लाना” इस Step में Memory or Program से Instruction और Data को Receive करते हैं. हम इस बात को अच्छे से जानते हैं कि Instruction or Data बहुत से प्रकार के होते हैं।

लेकिन यह Computer को कैसे पता चलता है कि कोनसा Instruction or Data किस Location में Save हैं। इसके लिये एक Program Counter का इस्तिमाल किया जाता है

जो कि Memory में Instruction ओर Data के Address को निर्धारित करता है।

Program Counter, Data or Instruction के Address को Number के रूप में Save करता है। जब कोई भी Instruction or Data लिया जाता है यानि कि Fetch किया जाता है तो Program Counter के लम्बाई को Instruction की लम्बाई के अनुसार बडा देता है। ताकि आने वाले Instruction or Data को Address दे सके।

Decode [ व्याख्या करना]

Decode का मतलब होता है Data or Instruction को Decoder करना. इस Step में Instruction or Data को एक Circuit से पास किया जाता है जिसे हम Decoder भी कहते हैं। जब कोई Instruction or Data इस Circuit से पास किया जाता है तो उसे एक Signal में बदल दिया जाता है।

मेमोरी से जो भी डाटा लिया जाता है उससे यह पता चलता है कि अब CPU का क्या काम है और आगे क्या करना है इससे CPU को अपने काम को पूरा करने के लिये आसानी हो जाती है।

Execute [ ऐक्शन लेना ]

जब किसी Data or Instruction को Signal मे Convert कर दिया जाता है तो उस Instruction को CPU के अनुसार Execute किया जाता है।

CPU Executed Data को Relevant Part के लिये भेज देता है। जिससे वो Part Instruction के आधार पर अपना काम कर सके.

इस तरह से एक Action को Complete किया जाता है। और जो  Final Result होता है उसे Save कर लिया जाता है।

Write Back [ वापिस लिखना ]

Execute होने के बाद जो Result मिलता है उसे Internal CPU में Register कर लिया जाता है। जिससे कि इस Result को काम आने पर आसानी के साथ Access किया जा सके। इसे हम साधारण रुप मे Jumps के नाम से भी जानते हैं। और इसका व्यवहार Loop में होता है।

CPU का क्या महत्व है- Importance of CPU in Hindi

  • हम इस बात को तो जानते हि है कि CPU Computer का Brain होता है। चाहे वो कोई भीकाम हो उसे इसे से हो कर जाना पडेगा और यही उसे Control करता है।
  • यह Computer के Arithmetic or Logical Calculation को असानी से पुरा कर देता है। बिना CPU के Computer कोई भी काम नही कर सकता है।
  • जब भी हम कोई System खरीदने जाते हैं तो हम सबसे ज्यादा ध्यान इस बात का रखते र्हैं कि इसका CPU कितनी Capacity है। और Configuration क्या है?
  • और अगर कोई बिना देखे अपना System खरीद लेता है तो उसे अपने काम करने में बहुत ज्यादा परेशानी हो सकती है।

जैसे कि किसी कि Video Editing के लिये Computer चाहिये तो उसके लिये एक अच्छा CPU होना चाहिये जिससे कि Video Editing असानी के साथ हो सके,

लेकिन अगर कोई हल्का CPU खरीद लेता है तो ऐसे मे वो Properly काम नही करेगा। और अगर काम कर भी लेता है तो उस System की Speed बहुत कम होगी।

  • हम इस बात को जान हि गये है कि CPU एक Computer के लिये कितना Important है और यह कैसे काम करता है। कैसे यह Data को Receive करता है,
  • अकसे Data Decode करता है। और कैसे Data Process करता है। कैसे Data को एक Part से दूसरे Part तक भेजता है।
  • अगर आप चाहते है कि आपके System कि Performance High हो तो ऐसे में आपके System का CPU भी High Performance का होना चाहिये।

CPU के फायदे- Advantage of CPU in Hindi

वैसे तो हम जानते हि है कि Computer के बहुत से काम होते है लेकिन अगर हम CPU कि बात करे कि CPU के क्या क्या फायदे है तो इसका जानना बहुत हि ज्यादा जरूरी है। क्योंकि इसकी जानकारी के बिना हम अपने Computer को अपने हिसाब से काम में नही ले सकते है। तो अब चलिये हम जान लेते है कुछ CPU के Important Advantage जो हमारे लिये बहुत हि महत्वपूर्ण है-

Dynamic Circuit – ग़तिशील सर्किट

आज के सारे Computer Processor के बने होते है यह Processor असल में Dynamic Circuit हि होते हैं जिनमे लाखो छोटे छोटे Switch होते हैं। जिनको हम Transistor कहते हैं। यह Switch दूसरे पार्ट के Configuration को Control करते हैं।

यह लाखो जो छोटे छोटे Switch होते है यह एक दूसरे से मिल कर एक Dynamic Circuit बनाते है। और यही Dynamic Circuit Computer का Processor होता है। जो कि हमारे Computer पर पूरी तरह से Control बना कर रखता है।

Fast Count – तेजी से गणना करना

Computer CPU का जो सबसे पहला Advantage है वो यह है कि यह बहुत हि ज्यादा तेजी से गणना कर लेता है। जो कि किसी इंसान के बस की बात नही है। कुछ कामो में तो Computer इंसान से बहुत आगे है जिसे इंसान इतनी आसानी से कर सकते है।

कोई भी Calculation आप दे दिजीये उसे भी यह बहुत हि जल्द हल कर देता है।

Computer के मुख्य काम को नियंत्रित करना

Computer Processor जो मुख्य काम होता है वो यह है कि यह Computer के सभी मुख्य कामो को आसानी के साथ Control कर लेता है जैसे कि Input Data हमारे CPU में जाता है और यह CPU Process करता है और उसके बाद Output देता है। और यही से Computer का असल काम शुरू होता है।

Logic

Processor Logic तो इतने आसानी के साथ लगा लेता है कि बस पूछो हि मत क्योंकि यह Logic Calculations को भी बहुत हि ज्यादा तेज और Accuracy के साथ पूरा कर देता है।

Moving Data

Data Moving का मतलब है कि हमे अपना डाटा किसी दूसरे Device में भेजना है या किसी को Transfer करना है तो यह इतनी आसानी कर देता है कि आपको पता भी नही चलेगा लेकिन उसके लिये आपके Processor थोडा अच्छा होना चाहिये।

Multitasking

मैं और आप इस बात को अच्छे से जानते है कि हमारे कुछ काम ऐसे होते है जो कि बिना Multitasking के नही हो सकते है। लेकिन जब से Processor ने Computer में जगह ली है तब से Multitasking बहुत हि ज्यादा आसान हो गयी है। और हम जितना चाहे Multitasking कर सकते है।

आपने आज क्या सीखा?

इस पोस्ट मे हमने आप लोगो को बताया है कि CPU Kya Hai? CPU Kaise Kam karata hai? और इसके मुख्य कौन कौन से पार्ट होते हैं जिनकी मदद से यह अपना काम पूरा करता है।

और हमने यह भी जाना कि CPU के Advantage क्या है यह कैसे हमारे Computer के लिये कितना Important है।

हमे उम्मिद है कि हमारा CPU Kya Hai? पोस्ट आपके उपयोगी साबित होगा और इसका आपके लिये कोई ना कोई फायदा जारूर होगा।

1 thought on “CPU क्या होता है? CPU की पूरी जानकारी हिंदी में?”

Leave a comment